Skip to main content

corona se mach gayaa hahakar , Corona created outcry

 कोरोना से मच गया है, हाहाकार 


कोरोना से चारों तरफ , मच गया है, हाहाकार 
कोरोना से, ये चारो तरफ, क्या हो गया है, यार 
कुछ भी समझ नही , आ रहा है 
इंसान , इंसान से दूर जा रहा है 
दुनिया में कोरोना  बीमारी, बढ़ती ही जा रही है 
कोरोना बीमारी तो, इंसानों को खा रही है 
इंसान ही है , इस बीमारी का जिम्मेदार 
दुनिया में चारों तरफ, मच गया है हाहाकार 
दुनिया में ये चारो तरफ, क्या हो गया है यार 
अब एक ही ठिकाना बन गया है ,घरद्धार 
ईश्वर अब तो कर दे, तू कोई चमत्कार 
अब तो सबकुछ लगे , बहुत ही बेकार 
इंसानों पर ये कैसी पड़ी है , कुदरत की मार 
ये सिलसिला कहाँ पर रुकेगा, आखिरकार 
कोरोना से चारों तरफ , मच गया है, हाहाकार 
कोरोना से, ये चारो तरफ, क्या हो गया है, यार 
दुनिया हो गई है, बिलकुल ही ठप 
कोरोना बीमारी का, अंत होगा कब 
लोग मरने लगे है, एक के बाद एक 
कोरोना से संक्रमित, होने लगे है अनेक 
भारत , अमेरिका सभी देश है, कोरोना के शिकार 
कोरोना बीमारी से, दुनिया हो गई है लाचार 
दुनिया में लोगों के, बंद हो गए है कारोबार 
ऐसे हालात में , दिल दुःख में डूब गया है यार 
ये कैसे पड़ी है , इंसानों पर कुदरत की मार 
बिना हथियारों के, ये कैसे शुरू हो गया है वार 
कोरोना से चारों तरफ , मच गया है हाहाकार 
कोरोना से, ये चारो तरफ, क्या हो गया है यार 
 दुनिया से , कोरोना का कब होगा विनाश 
दुनिया के लोगों को लगी है, बस यही आस 
कोरोना बीमारी का , कब होगा सत्यानाश 
ही दिन होगा , दुनिया के लिए खासम खास 
कोरोना से चारों तरफ , मच गया है, हाहाकार 
कोरोना से, ये चारो तरफ, क्या हो गया है, यार 
प्रदीप कछावा 
Pradeep Kachhawa
7000561915

There has been an outcry from Corona all around
From Corona, it's all around, what has happened, man
I don't understand anything
man is moving away from man
Corona disease is increasing in the world
Corona disease is eating humans
It is human, responsible for this disease
All around the world, there has been an outcry
It's all around the world, what has happened man
Now there is only one place, home
God do it now, you are a miracle
It's all over now, it's very useless
How has this happened on humans, the attack of nature
Where will this cycle stop, after all?
There has been an outcry from Corona all around
From Corona, it's all around, what has happened, man
The world has come to a standstill
Corona disease, when will it end
People are dying, one after the other
Infected with corona, many have started
India, America are all countries, victims of corona
Due to corona disease, the world has become helpless
People in the world, businesses have stopped
In such circumstances, the heart is drowned in sorrow, man
How has this happened, nature's attack on humans
Without weapons, how has this war started?
There has been an outcry from Corona all around
From Corona, it's all around, what has happened man
 From the world, when will the destruction of Corona
The people of the world have got only this hope
Corona disease, when will it be annihilated
It will be the same day, especially special for the world
There has been an outcry from Corona all around
From Corona, it's all around, what has happened, man
Pradeep Kachhawa
7000561915
prkrtm36@gmail.com




Comments

Popular posts from this blog

lyrics on kachhawa family kachhawa pariwar par gaana ya geet

कछावा परिवार  सुन्दर प्यारा, कछावा परिवार हमारा  सबसे न्यारा,  कछावा परिवार हमारा       एक-दूसरे से लड़ते हे, हम सब   दिल से प्यार करते हे, हम सब   कछावा परिवार नहीं, कभी किसी से हारा  ये हे जीनगर समाज की ,आँखों का तारा  यहाँ दारू के साथ-साथ, बहतीं हे प्रेम की धारा  सुन्दर प्यारा, कछावा परिवार हमारा   सबसे न्यारा,  कछावा परिवार हमारा    कछावा परिवार में हे, एक से एक धुरंधर  हो जाती चहल-पहल, ये जाते हे उस घर  सात भाईयों का हे, ये परिवार  दिल से जुड़ा हे, एक दूसरे का तार  कछावा परिवार से, हर कोई हारा  सुन्दर प्यारा, कछावा परिवार हमारा  सबसे न्यारा,  कछावा परिवार हमारा  दो बहनें और सात हे भाई  पार्वती देवी हे, इनकी माई  कछावा  परिवार में हे, बहुत सारे बच्चे  सभी प्यारे-प्यारे और दिल के हे सच्चे  कछावा  परिवार का, एक ही नारा  सुन्दर प्यारा,  कछावा   परिवार हमारा  बहुत दिनों बाद कही,  कछावा   परिवार मिलता हे  फिर वहा तो, पूरा मोहल्ला हिलता हे  इसमें हे, एक से बढ़कर एक हीरो  ये बना देते हे, अच्छे -अच्छे को जीरो

lyrics on sad ; gum par gaana ya geet

गम  इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  एक गम, ना भुला पायेंगा  तो दूसरा गम, चला आयेंगा  और दूसरा गम ना, भुला पायेंगा  तो तीसरा गम, चला आयेंगा  ये सिलसिला ना होगा, कभी कम  इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  क्यों तू, हमेशा सोचता रहता हे  दिल ही दिल में, क्या कहता हे  क्यों तू, इतना गम सहता हे  कब आएंगे अच्छे दिन, ये दिल कहता हे  जिंदगी में हार के ना हो, कभी हिम्मत कम इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  किसी को बीमारी का, किसी को बेरोजगारी का, हे गम  इस गम को ,भुलाने के लिए, तू मत पी यार रम  खुश रहकर तू कर , अपने पर  रहम  हौसला , हिम्मत और रखना तू दम दुनिया के है बड़े, कठोर ये नियम  इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  रखना पड़ेगी तुझे शांति और संयम  क्योंकि जीवन का यही है , आलम  अभी परिस्थितियां है, बहुत ही विषम  जिंदगी का रास्ता है, बहुत ही दुर्गम 

BFRC

  बीएफआरसी हम सब है, बीएफआरसीयन हमारा ग्रूप है , बीएफआरसी बिछडे , 22 बरस हो गये है दिल मै लगे , एक यादगारसी साथ-साथ , खेले-कूदे हम सब हमारी दोस्ती लगे , एक यारसी 2 साल , साथ-साथ रहे हम सब एह्सास होने लगा , एक परिवारसी पीटी और खेलो मै भागे-दौडे हम हमारी रफ्तार थी , एक कारसी 5 राज्यो के , हम सब साथी थे हमारी दोस्ती थी , दमदारसी 2000 , स्टाईफंड मिलता था पर खर्च करने मै , दिलदारसी सीधे-साधे , दिखते थे हम सब पर हमारी आवाज थी , नाहरसी खूब पिक्चर , देखते थे हम पिक्चर लगती थी , बडी प्यारसी कभी-कभी , बीएफआरसीयन मे हो जाती थी , एक तकरारसी घरवालो की , बहुत याद आती पर बीएफआरसी , लगता था घरबारसी भूख बडी , जोरदार लगती थी होने लगती थी , बडी बेकरारसी टेनिंग कब खत्म होगी यही रहती थी , एक इंतज़ारसी टेनिंग खत्म हुवी , बिछडने की बारी आई तो दिल मे लगी , गम की मारसी ऐसा था हमारा , बीएफआरसी ऐसा था हमारा , बीएफआरसी प्रदीप कछावा बीएफआरसीयन Prkrtm36@gmail.com 7000561914