Skip to main content

New year 2022 (नया साल 22



 नया साल (new year)

आया है, 2022वाला नया साल 
आओ खुशियाँ मनाऐ,  हम बेमिसाल 
नये साल का, हम सब करेंगे स्वागत्
खुशियाँ मनायेगें, 31st की रात जागत
नाचेंगे-गाएंगे, करेंगे बड़ी धमाल
खायेंगे- पीयेंगे, करेंगे बड़ा कमाल 
नया साल कर दे, सभी को निहाल 
आया है, 2022 वाला नया साल
नये साल में हम,  नया प्रण करेंगे 
बुराई को छोडकर, अच्छाई को ग्रहण करेंगे
नया साल हम सभी के लिए,गुजरे बहुत अच्छा 
नया साल में, खुश रहे दुनिया का हर एक बच्चा 
नये साल में हमसब,  हो जाए मालामाल 
आया है, 2022 वाला नया साल 
नये साल में, कोरोना चला जाए
फिर लौटकर ना, कभी दुनिया में आए
नये साल में कुछ,नया काम करेंगे
दुनिया में अपना, कुछ नाम करेंगे
हमसब करेंगे, एक दूसरे की देखभाल
आया है,  2022वाला नया साल 
आओ नये साल  का उल्लास हम मनाऐं
कुछ शांति के और प्रेम के गीत हम गाऐं
ऐसे ही हर वर्ष,  हम नया साल मनाऐं
कुछ सच्चे और अच्छे कार्य करके हम दिखाऐं
नव वर्ष में कोरोना की वैक्सीन, करेगी कमाल
आशा लेकर आया है,  2022 वाला नया साल 
आओ मिलकर खुशियाँ मनाऐं, हम बेमिसाल 
 Pradeep Kachhawa 
7000561914
prkrtm36@gmail.com

new year

has come, the new year of 2022
Let's celebrate happiness, we are matchless
We all will welcome the new year
Will celebrate happiness, wake up on the night of 31st
Will dance and sing, will make a big difference
will eat - drink

Comments

Anonymous said…
Harrah's Resort Southern California - Avis Bay Area Casino
Welcome to 우리 계열 더킹 카지노 Harrah's 더킹 카지노 사이트 Resort Southern California. Our spacious rooms feature spacious living alcove 에볼루션 카지노 사이트 beds, 온라인 카지노 합법 국가 flat-screen televisions, a dining polingcreations.com alcove,

Popular posts from this blog

lyrics on kachhawa family kachhawa pariwar par gaana ya geet

कछावा परिवार  सुन्दर प्यारा, कछावा परिवार हमारा  सबसे न्यारा,  कछावा परिवार हमारा       एक-दूसरे से लड़ते हे, हम सब   दिल से प्यार करते हे, हम सब   कछावा परिवार नहीं, कभी किसी से हारा  ये हे जीनगर समाज की ,आँखों का तारा  यहाँ दारू के साथ-साथ, बहतीं हे प्रेम की धारा  सुन्दर प्यारा, कछावा परिवार हमारा   सबसे न्यारा,  कछावा परिवार हमारा    कछावा परिवार में हे, एक से एक धुरंधर  हो जाती चहल-पहल, ये जाते हे उस घर  सात भाईयों का हे, ये परिवार  दिल से जुड़ा हे, एक दूसरे का तार  कछावा परिवार से, हर कोई हारा  सुन्दर प्यारा, कछावा परिवार हमारा  सबसे न्यारा,  कछावा परिवार हमारा  दो बहनें और सात हे भाई  पार्वती देवी हे, इनकी माई  कछावा  परिवार में हे, बहुत सारे बच्चे  सभी प्यारे-प्यारे और दिल के हे सच्चे  कछावा  परिवार का, एक ही नारा  सुन्दर प्यारा,  कछावा   परिवार हमारा  बहुत दिनों बाद कही,  कछावा   परिवार मिलता हे  फिर वहा तो, पूरा मोहल्ला हिलता हे  इसमें हे, एक से बढ़कर एक हीरो  ये बना देते हे, अच्छे -अच्छे को जीरो

lyrics on sad ; gum par gaana ya geet

गम  इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  एक गम, ना भुला पायेंगा  तो दूसरा गम, चला आयेंगा  और दूसरा गम ना, भुला पायेंगा  तो तीसरा गम, चला आयेंगा  ये सिलसिला ना होगा, कभी कम  इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  क्यों तू, हमेशा सोचता रहता हे  दिल ही दिल में, क्या कहता हे  क्यों तू, इतना गम सहता हे  कब आएंगे अच्छे दिन, ये दिल कहता हे  जिंदगी में हार के ना हो, कभी हिम्मत कम इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  किसी को बीमारी का, किसी को बेरोजगारी का, हे गम  इस गम को ,भुलाने के लिए, तू मत पी यार रम  खुश रहकर तू कर , अपने पर  रहम  हौसला , हिम्मत और रखना तू दम दुनिया के है बड़े, कठोर ये नियम  इस जिंदगी में हे, सभी को कई गम  ये होते नहीं हे, जिंदगी में कभी कम  रखना पड़ेगी तुझे शांति और संयम  क्योंकि जीवन का यही है , आलम  अभी परिस्थितियां है, बहुत ही विषम  जिंदगी का रास्ता है, बहुत ही दुर्गम 

BFRC

  बीएफआरसी हम सब है, बीएफआरसीयन हमारा ग्रूप है , बीएफआरसी बिछडे , 22 बरस हो गये है दिल मै लगे , एक यादगारसी साथ-साथ , खेले-कूदे हम सब हमारी दोस्ती लगे , एक यारसी 2 साल , साथ-साथ रहे हम सब एह्सास होने लगा , एक परिवारसी पीटी और खेलो मै भागे-दौडे हम हमारी रफ्तार थी , एक कारसी 5 राज्यो के , हम सब साथी थे हमारी दोस्ती थी , दमदारसी 2000 , स्टाईफंड मिलता था पर खर्च करने मै , दिलदारसी सीधे-साधे , दिखते थे हम सब पर हमारी आवाज थी , नाहरसी खूब पिक्चर , देखते थे हम पिक्चर लगती थी , बडी प्यारसी कभी-कभी , बीएफआरसीयन मे हो जाती थी , एक तकरारसी घरवालो की , बहुत याद आती पर बीएफआरसी , लगता था घरबारसी भूख बडी , जोरदार लगती थी होने लगती थी , बडी बेकरारसी टेनिंग कब खत्म होगी यही रहती थी , एक इंतज़ारसी टेनिंग खत्म हुवी , बिछडने की बारी आई तो दिल मे लगी , गम की मारसी ऐसा था हमारा , बीएफआरसी ऐसा था हमारा , बीएफआरसी प्रदीप कछावा बीएफआरसीयन Prkrtm36@gmail.com 7000561914