Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Evening with wine

lirics on when evening comes : jab sham aati hai par geet

जब शाम आती है  दिन ढल जाने के बाद , जब शाम आती है  फिर तो मेरे यारों, बस याद जाम आती है  दिन ढल जाने के बाद , जब शाम आती है  फिर तो मेरे यारों, बस याद जाम आती है  आओ दिनभर की थकान, हम उतारे   दिनभर के हम तो है, बहुत थके हारे  अब बस है, एक जाम का ही सहारा  जाम सिवाय नहीं है, कोई दूसरा चारा  जाम चीज तो, बड़ी काम आती है  दिन ढल जाने के बाद , जब शाम आती है  फिर तो मेरे यारों, बस याद जाम आती है  शाम ढल जाने के बाद, जब रात आती है  जाम पिने के बाद, नींद अच्छी आती है  चिंता फिकर दिमाग से, फुर्र हो जाती है  जाम पिने के बाद,नींद तो पक्की आती है  रोज शाम को फिर तो, याद जाम आती है  दिन ढल जाने के बाद , जब शाम आती है  फिर तो मेरे यारों, बस याद जाम आती है  जब जाम मिलती है तो, शाम मस्तानी हो जाती है  यारों के संग थोड़ी बहुत, छेड़खानी हो जाती है  शाम और जाम मिला देती है, अपने यारों से  ख़ुशी मिलती है मिलकर, अपने प्यारों से   शाम को जाम तो, बड़ी काम आती है दिन ढल जाने के बाद , जब शाम आती है  फिर तो मेरे यारों, बस याद जाम आती है  प्रदीप कछावा