Skip to main content

Posts

Showing posts with the label corona

shayary ( poetry )

शायरी  दूर हो गया है , इंसान,इंसान से  डर लगने लगा है ,कोरोना हैवान से  फैलता ही जा रहा है , दुनिया में ये  कोरोना कब जाएगा इस जहान से  प्रदीप कछावा  7000561914 prkrtm36@gmail.com

lyrics on by corona There was an Outcry ( corona se mach gayaa hahakar par geet )

 कोरोना से मच गया है, हाहाकार  कोरोना से चारों तरफ , मच गया है, हाहाकार  कोरोना से, ये चारो तरफ, क्या हो गया है, यार  कुछ भी समझ नही , आ रहा है  इंसान , इंसान से दूर जा रहा है  दुनिया में कोरोना  बीमारी, बढ़ती ही जा रही है  कोरोना बीमारी तो, इंसानों को खा रही है  इंसान ही है , इस बीमारी का जिम्मेदार  दुनिया में चारों तरफ, मच गया है हाहाकार  दुनिया में ये चारो तरफ, क्या हो गया है यार  अब एक ही ठिकाना बन गया है ,घरद्धार  ईश्वर अब तो कर दे, तू कोई चमत्कार  अब तो सबकुछ लगे , बहुत ही बेकार  इंसानों पर ये कैसी पड़ी है , कुदरत की मार  ये सिलसिला कहाँ पर रुकेगा, आखिरकार  कोरोना से चारों तरफ , मच गया है, हाहाकार  कोरोना से, ये चारो तरफ, क्या हो गया है, यार  दुनिया हो गई है, बिलकुल ही ठप  कोरोना बीमारी का, अंत होगा कब  लोग मरने लगे है, एक के बाद एक  कोरोना से संक्रमित, होने लगे है अनेक  भारत , अमेरिका सभी देश है, कोरोना के शिकार  कोरोना बीमारी से, दुनिया हो गई है लाचार  दुनिया में लोगों के, बंद हो गए है कारोबार  ऐसे हालात में , दिल दुःख में डूब गया है यार  य

lyrics on corona virus ( corona par gaana ya geet )

कोरोना    अरे आया रे आया ये कोरोना    इसे मत समझो तुम खिलौना  अरे आया रे आया ये कोरोना  इसे मत समझो तुम खिलौना  दुनिया पर ये कैसा संकट आया  चारों तरफ डर का माहौल छाया  इंसान इंसान से डरने लगा है  कोरोना से इंसान मरने लगा है घर पर ही अब तुम रहोना  अरे आया रे आया ये कोरोना  इसे मत समझो तुम खिलौना  कोरोना दुनिया में फ़ैल गया है  दुनिया वालों से ये खेल गया है  किसी से तुम अभी ना मिलोना  नहीं तो फिर तुम्हें पडेगा रोना  तुम साफ-सफाई तो रखोना अरे आया रे आया ये कोरोना  इसे मत समझो तुम खिलौना  सभी लोगों को हमे जगाना है  कोरोना को तो हमें भगाना है  हमें नहीं अपनों को खोना है  कोरोना बहुत ही घिनोना है  कोरोना को कण्ट्रोल तो करोना  अरे आया रे आया ये कोरोना  इसे मत समझो तुम खिलौना  प्रदीप कछावा  7000561914 prkrtm36@gmail.com